SDM Ka Full Form, SDM Full Form In Hindi, SDM Kaise Bane, SDM Meaning In Hindi

SDM Full Form In Hindi – एसडीएम का फुल फॉर्म, एसडीएम कैसे बने, कार्य, सैलरी

एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है, SDM Full Form In Hindi, SDM Kaise Bane, SDM Meaning In Hindi, एसडीएम की सैलरी कितनी होती है, SDM Ka Full Form In Hindi, एसडीएम का पूरा नाम क्या है

हेलो दोस्तो हमारे इस ब्लॉग में आपका एक दफा फिर से स्वागत है, आज हम आपके लिए एक ओर नई जानकारी लेकर आये है, जिसमे हम एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है (SDM Full Form In Hindi) के बारे में बात करने वाले है।

साथ मे जानेंगे कि SDM Kaise Bane, SDM Meaning In Hindi, एसडीएम की सैलरी कितनी होती है, ओर एसडीएम का काम क्या होता है से जुड़े हुए सभी सवालों के जवाब आज के इस लेख में हम आपको देने वाले है।

दोस्तों बहुत से लोग गूगल पर हमेशा करते हैं कि एसडीएम कौन होता है, एसडीएम के कार्य क्या होते हैं ओर एसडीएम की सैलरी कितनी होती है, इसके अलावा एसडीएम कैसे बने,

SDM Ka Full Form, SDM Full Form In Hindi, SDM Kaise Bane, SDM Meaning In Hindi

के बारे में भी बहुत से लोग जानना चाहते है, यदि आपको भी एसडीएम की पोस्ट के बारे में ज्यादा कुछ जानकारी नही है, नही है, तो आज के इस लेख में हम एसडीएम से जुड़ी हुई सभी जानकारी देने वाले है।

जिसमे हम एसडीएम का फुल फॉर्म से लेकर एसडीएम कैसे बने तक जानकारी देने वाले है, आइये अब बिना टाइम गवाएं हुए बात करते है, की Sdm ka full form क्या है।

Table of Contents

एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है ? (SDM Full Form in Hindi)

दोस्तो आज के समय मे हर कोई एसडीएम का फुल फॉर्म के बारे में सर्च करता है, एसडीएम का फुल फॉर्म “Sub Divisional Magistrate” होता है।

एसडीएम का फुल फॉर्म हिंदी में सब दिविशनल मजिस्ट्रेट को हिंदी में उप जिला अधिकारी (उप-प्रभागीय न्यायाधीश) कहा जाता है, यह जिले में एक बड़ा पद माना जाता है। एसडीएम का प्रमुख कार्य जिले में चल रहे,

सरकारी एवं प्राइवेट कार्यो पर नजर बनाए रखना होता है, इसके अलावा भी एसडीएम के कई सारे कार्य जमीन और शादी रजिस्ट्रेशन से जुड़े हुए होते है।

जिनके बारे में आगे हम बात करने वाले है, आइये अब बात करते है, की एसडीएम कौन होता है, ओर एसडीएम कैसे बने।

एसडीएम कौन होता है | SDM Meaning In Hindi : 

दोस्तो जैसा कि हमने आपको ऊपर जानकारी दी है, की एसडीएम का पूरा नाम Sub Divisional Magistrate होता है, Sub Divisional Magistrate को उप जिला अधिकारी,

या (उप-प्रभागीय न्यायाधीश) भी कहा जाता है, जोकि एक उच्चस्तरीय सरकारी पद होता है, एसडीएम को जिले में सरकारी कार्यो की जिम्मेदारी दी जाती है, एसडीएम को जिला स्तर पर सभी सरकारी एवं,

अर्धसरकारी कार्यो को नियंत्रित करने के लिए नियुक्त किया जाता है, एसडीएम का प्रमुख कार्य जिले में सरकारी योजनाओं की शुरुआत करना, एवं उन्हें संचालित करना होता है।

एसडीएम जिले में जमीनी विवाद को सुलझाने का कार्य भी करता है, ओर एसडीएम जिले में होने वाली सभी गैरकानूनी कार्यवाही की रोकथाम भी करता है, इसके अलावा सरकार के द्वारा आयोजित की जाने वाली,

सभी योजनाओं का लाभ जिले में रहने वाले हर एक नागरिक तक पहुँचाने का कार्य भी एसडीएम ही करता है, सरल भाषा मे कहा जाए तो जिस प्रकार एक प्रधानमंत्री अपने देश को संभालता है।

उसी प्रकार जिला अधिकारी एवं उपजिला अधिकारी को भी अपनी डिस्ट्रिक्ट को संभालना होता है, यह एक उच्चस्तरीय सरकारी पद माना जाता है, आज के समय मे लाखो युवा डीएम और एसडीएम बनना चाहता है।

क्योकि एसडीएम एक लोकप्रिय सरकारी पद होता है। आगे हम आपको एसडीएम बनने के बारे में जानकारी देने वाले है, आइये पहले हम जानते है, की एसडीएम का काम क्या होता है।

एसडीएम का काम क्या होता है ? 

दोस्तो जैसा कि हमने आपको बताया है, की एसडीएम एक उच्चस्तरीय सरकारी पद होता है, जोकि जिलास्तर पर कार्य करता है, इसके अलावा अगर देखा जाए तो एसडीएम को कई सारे ओर भी कार्य करने पड़ते है, जोकि निम्नलिखित है- 

  • SDM का सबसे प्रमुख कार्य राज्य के भूमि अभिलेखों के सभी ब्यौरों का देख-रेख करना होता है।
  • SDM का दूसरा प्रमुख कार्य जिले के नागरिकों के लिए जरूरी प्रमाणपत्र जारी करना होता है। अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और पिछड़े वर्ग को वैधानिक प्रमाण पत्र ज़ारी करने का कार्य भी एसडीएम का ही होता है।
  • SDM का सबसे महत्वपूर्ण कार्य प्रभागीय क्षेत्र में होने वाले चुनाव को सफलता पूर्वक आयोजित करना होता है, इसके अलावा एसडीएम निर्वाचन संबंधी सारे कार्य संभालता है।
  • SDM के महत्वपूर्ण कार्यो में से एक मजिस्ट्रेट संबंधी कार्य होते है, जिन्हें संभालने की सारी जिम्मेदारी एसडीएम की होती है।
  • SDM के प्रमुख कार्यो में से एक जिले की सभी जमीनों के कागजों और उन जमीनों का लेखा जोखा भी एसडीएम के अंतर्गत आता है।
  • SDM के सभी महत्वपूर्ण और जिम्मेदारी वाले कार्यो में से एक प्रभागीय क्षेत्र के अंतर्गत होने वाले सभी विवाहों के पंजीयन कराने का कार्य भी एसडीएम का ही होता है। क्योकि विवाह संबंधी पंजीयन एक निच्छित समय सीमा के अंतर्गत करवाना जरूरी होता है।
  • SDM के प्रमुख कार्यो में से एक राजस्व सम्बंधित कार्यों की भी ज़िम्मेदरियाँ भी एसडीएम के कंधों के ऊपर होती है।
  • SDM के अंतर्गत तहसीलदार आते है, ऐसे में तहसीलदार एसडीएम से बिना पूछे राजस्व संबंधी कोई कार्य नही कर सकता है, एसडीएम के दिशा निर्देशों का पालन तहसील को करना पड़ता है।
  • जिले में हो रहे गैर कानूनी कार्यो पर नजर रखना और उन्हें बंद करने का कार्य भी एसडीएम ही करता है, जितने भी गैर – कानूनी कार्य हो रहे है, उन्हें तत्काल बंद करके जेल पहुँचाने में एसडीएम का बड़ा रोल रहता है।

दोस्तो एसडीएम के यह प्रमुख कार्य होते है, जोकि एसडीएम को संभालने पड़ते है, इसके अलावा भी कई सारे छोटे-बड़े कार्य हो सकते है, जोकि एसडीएम के अंतर्गत आते हो, आइये अब बात करते है, की एसडीएम कैसे बने।

एसडीएम कैसे बने ? (SDM Kaise Bane in Hindi)

दोस्तो अब तक हमने जाना कि एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है, ओर एसडीएम के कार्य क्या है, अब हम बात करने वाले है, की एसडीएम कैसे बने, दोस्तो एसडीएम बनना इतना आसान नही है, क्योकि यह एक लोकप्रिय पद है।

जिसके लिए देश मे लाखो उम्मीदवार है, ऐसे में एसडीएम बनने के लिए काफी मेहनत होगी, दोस्तो एसडीएम बनने के लिए आपको इन प्रमुख स्टेप को फॉलो करना होगा- 

  • एसडीएम बनने के लिए सबसे पहले 10 वी पास करने के बाद 12वी में आपको कॉमर्स स्ट्रीम लेनी होगी, ओर 12वी कक्षा आपको 50% से ज्यादा अंको से पास करनी होगी।
  • 12वी कक्षा पास करने के बाद आपको BA ( बैचलर ऑफ कॉमर्स ) कर लेना है, यह 3 साल का कोर्स होता है, जिससे आप किसी अच्छे कॉलेज से कर सकते है।
  • BA कोर्स करने के बाद अब आपको कोई कोर्स नही करना है, लेकिन आपको राज्य सरकार के द्वारा आयोजित की जाने वाली एग्जाम में एडमिशन लेना है।
  • दोस्तो SDM बनने के लिए दो प्रमुख तरीके है, आप इन दो तरीको को दो अलग-अलग एग्जाम के रूप में देख सकते है, सबसे पहला तरीका State Civil Service Exam होती है, जिसके लिए आपको एडमिशन लेना होगा, ओर इस एग्जाम में आपको अच्छे मार्क्स आने चाहिए।
  • दोस्तो अगर देखा जाए तो दूसरा तरीका State Public Service Commission Exam है, इन दोनों एग्जाम में से आपको किसी एक एग्जाम को बहुत ही अच्छे नंबर से पास करना होगा, तभी आप आप एसडीएम पद के उम्मीदवार बन सकते है।
  • इन दोनों एग्जाम के अलावा भी ओर भी कई सारी छोटी-बड़ी एग्जाम में आपको पार्टिसिपेट लेना होगा, लेकिन यह दोनों एग्जाम मैन होती है, इनमे से आप किसी एक एग्जाम को चुन सकते हो।
  • दोस्तो एसडीएम पद के लिए आवेदन करने के बाद भी आपको 3 तरह की एग्जाम देनी होगी, जोकि एसडीएम चयन प्रिक्रिया के अंतर्गत आती है, जिनके बारे में आगे हम आपको बताने वाले है।

दोस्तो एसडीएम बनने के लिए आपको इन प्रमुख चरणों को पूरा करना होगा, जिसके बाद आप एसडीएम बनने के लिए एलिजिबल हो जाते हो, एसडीएम बनने के लिए आयु सीमा भी निर्धारित की गई है।

जिनके बारे में आगे हम आपको विस्तार पूर्वक जानकारी देने वाले है, आइये पहले एसडीएम चयन प्रिक्रिया के बारे में बात करते है।

एसडीएम पद के लिए चयन प्रक्रिया क्या है ? 

दोस्तो शैक्षणिक योग्यता पूरी करने के बाद एसडीएम पद के लिए चयन प्रक्रिया रखी गई है, जोकि 3 प्रमुख चरणों मे कंप्लेट होती है- 

1- प्रारंभिक परीक्षा :- दोस्तो एसडीएम पद के लिए सबसे प्रारंभिक परीक्षा होती है, जिसमें विकल्प टाइप क्वेश्चन आते है, प्रारंभिक परीक्षा 2 घंटे की होती है।

2 – मुख्य परीक्षा :- दोस्तो एसडीएम पद के लिए प्रारंभिक परीक्षा पास करने के बाद आपको मुख्य परीक्षा देनी होती है, जोकि थोड़ी मुश्किल मानी जाती है।

3 – साक्षात्कार (इंटरव्यू) :- दोस्तो प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा पास करने के बाद फाइनल एग्जाम इंटरव्यू के रूप में होती है जहां पर आपसे कुछ मौखिक सवाल पूछे जाते हैं, इसके अलावा आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स अर्थात बात-चीत करने का तरीका देखा जाता है।,

दोस्तो प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार परीक्षा इन तीनो को पास करने के बाद आप एसडीएम पद के लिए  SDM पद के लिए सेलेक्ट हो जाते है, एसडीएम पद के लिए सेलेक्ट होने के कुछ दिनों बाद आपकी बेसिक ट्रेनिंग होती है।

जहाँ पर आपको एसडीएम के कार्य के बारे में जानकारी दी जाती है, ट्रेनिग के बाद आपको एसडीएम का कार्यभार दे दिया जाता है, आइये दोस्तो अब जानते है, कि एसडीएम पद के लिए आयु सीमा कितनी निर्धारित की गई है।

एसडीएम पद के लिए आयु सीमा क्या है ?

दोस्तो एसडीएम पद के लिए कुछ आयु सीमा भी निर्धारित की गई, जोकि कुछ इस प्रकार है – 

General Cast के लिए21 से 40 वर्ष
OBC Cast के लिए21 से 45 वर्ष
SC/ST Cast के लिए21 से 45 वर्ष
PWD Cast के लिए21 से 55 वर्ष

दोस्तो एसडीएम बनने के लिए आपको इन आयु वर्ग में आना होगा, तभी आप एसडीएम बन सकते हो, आइये अब जानते है, कि एसडीएम की तैयारी में कितना पैसा खर्च होता है।

एसडीएम की तैयारी में कितना पैसा खर्च होता है ?

एसडीएम पद के लिए राज्य सरकार के द्वारा आयोजित की जाने वाली State Civil Service Exam देनी पड़ती है, जिसके बाद अन्य ओर भी एग्जाम देनी होती है, सभी एग्जाम को मिलाकर 30 हजार से लेकर 50 हजार रुपये तक ख़र्च करने पड़ सकते है। 

इसके अलावा एसडीएम एग्जाम की तैयारी के लिए कोचिंग संस्थान जॉइन करने पड़ते है, जिनके लिए 1.5 से 2 लाख रुपये का अतिरिक्त खर्च आता है।    

एसडीएम की सैलरी कितनी होती है | SDM Ki Salary :

एसडीएम के बारे में सर्च करते समय हर एक के मन मे एक सवाल जरूर रहता है, की एसडीएम की सैलरी कितनी होती है, यदि आप भी एसडीएम की सैलरी के बारे में जानना चाहते है।

तो हम आपको बतानां चाहेंगे कि एसडीएम की सैलरी राज्यो के ऊपर निर्भर करतीं है, हर एक राज्यो में एसडीएम की सैलरी अलग-अलग होती है, लेकिन ज्यादा अंतर देखने को नही मिलता है, 

एसडीएम जिले में एक मान्यवर पद होता है, एसडीएम की मशिक सैलरी सैलरी 50 से 60 हजार प्रतिमाह तक होती है, इसके अलावा वेतन भत्ता भी दिया जाता है।

साथ ही वाहन सुविधा भी एसडीएम को मिलती है, इसके अलावा भी कई सारी सुविधाएं एसडीएम को मिलती है, जिनके बारे में आगे हम बात करने वाले है। 

एसडीएम को मिलने वाली सुविधाएं क्या है ?

दोस्तो एसडीएम को सरकार के द्वारा अच्छी सैलरी के साथ-साथ कई सारी सरकारी सुविधाएं भी मिलती है, जोकि निम्नलिखित है- 

  • दोस्तो सरकार की तरफ से एसडीएम को फ्री में रहने के लिए आवाश दिया जाता है, या फिर बहुत ही कम किम्मत पर मिल जाता है।
  • एसडीएम को घर के साथ-साथ फ्री बिजली एवं पानी भी दिया जाता है।
  • एसडीएम एक मान्यवर पद होता है, जिसकी सुरक्षा के लिए घर पर एक सिक्युरिटी गार्ड भी दिया जाता है।
  • एसडीएम को सरकारी काम हेतु एक फ्री वाहन भी दिया जाता है, जिसका सारा खर्च सरकार उठाती है, साथ मे अगर आप कही सरकारी कार्य हेतु जाते-आते होतो उच्च श्रेणी का आवाश दिया जाता है।
  • एसडीएम को कार्य हेतु एक फ्री मोबाइल कनेक्शन दिया जाता है, जिसका सारा खर्च सरकार उठाती है।
  • एसडीएम को एसडीएम पद से रिटायर होने के बाद पेंशन भी दिया जाता है, जोकि हर महीने मिलता है।

दोस्तो सरकार की तरफ से एसडीएम को सैलरी के साथ- साथ यह प्रमुख सुविधाएं दी जाती है।

SDM Full Form in hindi से संबंधित FAQ

दोस्तो SDM ka Full Form से संबंधित आपके मन में ओर भी कई सारे सवाल होंगे, जिनके जवाब आपको FAQ के माध्यम से मिल जाएंगे-

तहसीलदार और एसडीएम के बीच का अंतर क्या है ?

तहसीलदार ओर एसडीएम में अंतर की बात करें, तो एसडीएम दो-तीन तहसीलों को मिलाकर बनाये अनुविभाग का (Sub-divisional magistrate) होता हैं। ओर वही तहसीलदार तहसील का सबसे बड़ा राजस्व अधिकारी और कार्यपालक दंडाधिकारी (Executive magistrate) होता हैं

एक जिले में कितने एसडीएम होते हैं ?

एक जिले में 1 डीएम ओर 15 एसडीएम होते है।

एसडीएम का फुल फॉर्म क्या होता है?

एसडीएम का फुल फॉर्म “Sub Divisional Magistrate” होता है। एसडीएम का फुल फॉर्म हिंदी में सब दिविशनल मजिस्ट्रेट को हिंदी में उप जिला अधिकारी (उप-प्रभागीय न्यायाधीश) कहा जाता है

एसडीएम का पूरा नाम क्या है?

एसडीएम का पूरा नाम “Sub Divisional Magistrate” होता है। जिसको हिंदी में जिला अधिकारी (उप-प्रभागीय न्यायाधीश) कहा जाता है

SDM बनने के लिए कौनसी परीक्षा पास करनी होती है ?

एसडीएम बनने के लिए PCS की परीक्षा पास करनी होती है जिसके बाद ही कोई एसडीएम बन पाता है।

एसडीएम का पावर क्या है?

एसडीएम किसी भी जिले में एक बड़ा पद माना जाता है, एसडीएम के पास पावर होती है, एसडीएम जिले का एक बड़ा सरकारी पद माना जाता है, ऐसे में एसडीएम के पास अच्छी खासी पावर होती है।

एसडीएम का काम क्या होता है?

एसडीएम जिले में एक बड़े लेवल का अधिकारी होता है, ऐसे एसडीएम को कई सारे करने पड़ते है, एसडीएम के प्रमुख कार्य सरकारी योजनाओं की शुरुआत करना, एवं उन्हें संचालित करना होता है, इसके अलावा जिले में जमीनी विवाद सुलझाना, विधानसभा के सदस्यों का चुनाव करवाना. मैरिज रजिस्ट्रेशन करवाना, ओबीसी, एससी/एसटी और जन्म एवं निवास प्रमाण पत्र से जुड़े हुए कार्य भी एसडीएम को करने पड़ते है।

एसडीएम का वेतन कितना होता है?

एसडीएम की मशिक सैलरी सैलरी 50 से 60 हजार प्रतिमाह तक होती है, इसके अलावा एसडीएम को वेतन भत्ता भी दिया जाता है और अन्य प्रकार की सेवाएं भी एसडीएम को मिलती है।

निष्कर्ष : एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है 

आसा करते है, की आपको एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है (SDM full Form In Hindi) से संबंधित यह लेख पसंद आया होगा, इस लेख में हमारे द्वारा SDM Kaise Bane ओर एसडीएम की सैलरी कितनी होती है के बारे में भी जानकारी दी है।
 
इस लेख में हमारी टीम द्वारा SDM Meaning In Hindi, SDM ka Full form in Hindi के बारे में बहुत ही अच्छे से एक्सप्लेन किया गया है, यदि यह जानकारी आपको पसंद आई है, तो इसे अपने दोस्तों तक जरूर शेयर करें।
 
ओर यदि आपके मन मे इस लेख से संबंधित कोई सवाल है, तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते है इसके अलावा ऐसी ही ओर भी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए आप हमारे इस ब्लॉग को गूगल पर भी सर्च कर सकते है।
 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!