हार्ड डिस्क क्या है, What Is Hard Disk in Hindi, हार्ड डिस्क कैसे काम करती हैं, Hard Disk Kya hai, हार्ड डिस्क के प्रकार, Types Of Hard Disk in hindi, हार्ड डिस्क की विशेषताएं 

What Is Hard Disk in Hindi – हार्ड डिस्क क्या है और हार्ड डिस्क के प्रकार

हार्ड डिस्क क्या है, What Is Hard Disk in Hindi, हार्ड डिस्क कैसे काम करती हैं, Hard Disk Kya hai, हार्ड डिस्क के प्रकार, Types Of Hard Disk in hindi, हार्ड डिस्क की विशेषताएं 

दोस्तो आप सभी का इस ब्लॉग पोस्ट में स्वागत है, जहां पर हम आपके लिए एक और उपयोगी जानकारी लेकर आए है, इस लेख में हम हार्ड डिस्क क्या है (What is Hard Disk In Hindi) के बारे में बात करने वाले हैं।
 
साथ में हम आपको हार्ड डिस्क कैसे काम करती हैं, हार्ड डिस्क के प्रकार, हार्ड डिस्क की विशेषताएं और हार्ड डिस्क के फायदे से जुड़ी हुई सभी प्रकार की जानकारी आज के इस लेख में हम आपको देने वाले है।
 
दोस्तो कंप्यूटर के मुख्य भागों में आपने हार्ड डिस्क के बारे में जरूर सुना होगा, हार्ड डिस्क कंप्यूटर का एक अहम पार्ट्स होता है, और इसके बारे में हमें जानकारी होनी चाहिए, क्योंकि हार्ड डिस्क कंप्यूटर की एक सेकेंडरी मेमोरी है जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर में डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है,
हार्ड डिस्क क्या है, What Is Hard Disk in Hindi, हार्ड डिस्क कैसे काम करती हैं, Hard Disk Kya hai, हार्ड डिस्क के प्रकार, Types Of Hard Disk in hindi, हार्ड डिस्क की विशेषताएं 
इसके अलावा भी हार्ड डिस्क हमारे लिए कई प्रकार से महत्वपूर्ण है, अगर आपको हार्ड डिस्क से जुड़ी हुई जानकारी नही है, और आप जानना चाहते है की हार्ड डिस्क क्या है, तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े आइए दोस्तो अब बिना किसी देरी के जानते है, की हार्ड डिस्क क्या है।
 

हार्ड डिस्क क्या है ? (What is Hard Disk in hindi)

दोस्तो हार्ड डिस्क एक डेटा स्टोरेज डिवाइस है, जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर में बड़ी मात्रा में डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है, दूसरे शब्दों में कहें तो “हार्ड डिस्क एक सेकेंडरी मेमोरी” है, जिसका उपयोग कंप्यूटर में डाटा स्टोर करने के लिए किया जाता है।
 
Hard Disk को HDD (Hard Disk Drive) भी कहा जाता है, हार्ड डिस्क एक Non-Volatile मेमोरी होती है, अर्थात बिजली के चले जाने पर या कंप्यूटर बंद होने की स्थिति में भी इसमें स्टोर किया गया डेटा डिलीट या नष्ट नहीं होता है, हार्ड डिस्क की खास बात यह है, की हार्ड डिस्क में सुरक्षित तरीके से डाटा स्टोर कर सकते है।
 
कंप्यूटर में हार्ड डिस्क का इस्तेमाल ऑपरेटिंग सिस्टम, सॉफ्टवेयर, विडियो, ऑडियो और चित्रों आदि को स्टोर करने के लिए किया जाता है, वर्तमान समय में कई प्रकार की हार्ड डिस्क मेमोरी आती है, जिनका इस्तेमाल आप अपने डेस्कटॉप में कर सकते है।
 
जिस प्रकार हमारे मोबाइल में मेमोरी कार्ड का इस्तेमाल फोटो, वीडियो, डॉक्यूमेंट और फाइल्स को स्टोर करने के लिए किया जाता है, उसी प्रकार कंप्यूटर में हार्ड डिस्क का इस्तेमाल हमेशा के लिए एप्लिकेशन, सॉफ्टवेयर और डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है,
 
हार्ड डिस्क में सुरक्षित तरीके से स्टोर किया गया डेटा आपकी अनुमति के बिना डिलीट नहीं होता है, इसके अलावा हार्ड डिस्क में काफी ज्यादा डाटा स्टोर कर सकते है, मार्केट में उपलब्ध हार्ड डिस्क 256 GB से लेकर 1 TB तक का डेटा आसानी से स्टोर कर सकती है।
 
हार्ड डिस्क को कंप्यूटर के मदरबोर्ड में स्थापित किया जाता है, हार्ड डिस्क के पीछे एक Circuit Board मौजूद होता है, जो इसे Computer के साथ कनेक्ट करने में मदद करता है, Hard Disk एल्यूमीनियम और कांच से बनी हुई होती है, जिसके ऊपर चुंबकीय पदार्थ की परत चढ़ी होती है।
 
हार्ड डिस्क मार्केट में आसानी से उपलब्ध हो जाती है, और यह अन्य मेमोरी की तुलना काफी सस्ती होती है। दोस्तो हार्ड डिस्क के अविष्कार की बात की जाए तो हार्ड डिस्क का अविष्कार 13 सितम्बर 1956 को IBM की एक टीम के द्वारा किया गया था, आइए अब जानते है की हार्ड डिस्क के प्रकार।
 

हार्ड डिस्क के प्रकार – Types Of Hard Disk in hindi

दोस्तो हार्ड डिस्क के प्रकार की बात की जाए तो मार्केट में 5 प्रकार की हार्ड डिस्क उपलब्ध है, जिनके बारे में नीचे जानकारी दी गई है – 
  1. SATA
  2. PATA
  3. SCSI
  4. SSD
  5. NVMe

1- SATA

दोस्तो SATA का पूरा नाम Serial Advanced Technology Attachment (सीरियल एडवांस टेक्नोलॉजी अटैचमेंट) होता है, आजकल के ज्यादातर कंप्यूटर और लैपटॉप में आपको इसी प्रकार की हार्ड डिस्क मिलेगी। डेस्कटॉप और लैपटॉप दोनो में SATA का इस्तेमाल किया जाता है।
 
डेस्कटॉप में 3.5 इंच और लैपटॉप में 2.7 इंच के SATA का इस्तेमाल किया जाता है, SATA के Data को ट्रान्सफर करने की गति अधिक होती है, इसकी सामान्य गति 150 MBPS से 600 MBPS तक होती है, SATA को Serial ATA के नाम से भी जाना जाता है।
 
SATA के अविष्कार की बात की जाए तो साल 2000 में SATA का अविष्कार हुआ था, पुराने समय के कंप्यूटरों में PATA का इस्तेमाल किया जाता था, और आज के ज्यादातर कंप्यूटर में PATA की जगह SATA का उपयोग किया जाता है।
 

2- PATA

दोस्तो PATA पूरा नाम Parallel Advanced Technology Attachment (पैरेलल एडवांस टेक्नोलॉजी अटैचमेंट) होता है, इसको Parallel ATA के नाम से भी जाना जाता है, अगर इसके अविष्कार की बात जाए तो PATA का अविष्कार 1986 में किया गया था।
 
PATA के डेटा को ट्रान्सफर करने की गति 133 MBPS है. जोकि अन्य की तुलना में थोड़ी कम होती है, PATA के डाटा ट्रांसफर करने की गति कम होने की वजह से आजकल इसका इस्तेमाल थोड़ा कम किया जाता है।
 

3- SCSI

दोस्तो SCSI का पूरा नाम Small Computer System Interface (स्माल कंप्यूटर सिस्टम इंटरफ़ेस) होता है, दोस्तो यह भी एक प्रकार की हार्ड डिस्क होती है, इसका इस्तेमाल छोटे आकार वाले कंप्यूटर में अधिक किया जाता है, SCSI की Data ट्रान्सफर करने की गति 640 MBPS होती है।
 
SCSI की डाटा ट्रांसफर करने की गति SATA और PATA दोनो की तुलना में काफी ज्यादा अधिक होती है, इसी वजह से इस हार्ड डिस्क का भी काफी ज्यादा इस्तेमाल होता है।
 

4- SSD

दोस्तो SSD का पूरा नाम Solid State Drive (सॉलिड स्टेट ड्राइव) होता है। SSD एक प्रकार का सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस है, जिसका उपयोग बड़ी मात्रा में डेटा स्टोरेज लिए किया जाता है, दोस्तो SSD में फ़्लैश मेमोरी का इस्तेमाल किया जाता है जिसके कारण इसकी स्पीड बहुत अधिक तेज़ होती है।
 
दोस्तो SSD की स्पीड दूसरे हार्ड डिस्क ड्राइव के मुकाबले बहुत अधिक होती है, बस यही वजह है, की इसका इस्तेमाल बहुत अधिक किया जाता है, SSD का एक नुकसान यह है कि यह अन्य ड्राइव की तुलना में काफी ज्यादा महंगी होती है, परंतु आजकल SSD काफी ज्यादा उपयोगी मानी जाती है।
 

5- NVMe

दोस्तो NVMe का पूरा नाम Non-Volatile Memory Express (नॉन-वोलेटाइल मैमोरी एक्सप्रेस) होता है, NVMe का इस्तेमाल डेटा ट्रान्सफर की स्पीड को बढ़ाने के लिए किया जाता है, यह अन्य Hard Disk की तुलना में कम बिजली की खपत करता है, 
 
जिसकी वजह से जल्दी गर्म नहीं होता है। NVMe की परफॉमेंस काफी अच्छी होती है जिसके कारण उपयोगकर्ताओं को ज्यादा समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है, अगर इसके अविष्कार की बात की जाए तो इसका अविष्कार 2013 में किया गया था।
 
 यह भी पढ़े:

हार्ड डिस्क की विशेषताएं – Features Of Hard Disk In hindi

दोस्तो वर्तमान समय में हार्ड डिस्क की कई सारी विशेषताएं है जोकि निम्नलिखित हैं –
 

1- Non-volatile (नॉन-वोलेटाइल)

दोस्तो हार्ड डिस्क एक Non-volatile मेमोरी होती है, अर्थात की अगर आपका कंप्यूटर किसी कारणवश बंद हो जाता है, तो इसमें स्टोर किया गया डेटा डिलीट या नष्ट नहीं होता है, अर्थात की आपका डाटा हार्ड डिस्क में हमेशा सुरक्षित तरीके से स्टोर रहता है।
 

2- High Capacity (उच्च क्षमता)

दोस्तो हार्ड डिस्क की एक और मुख्य विशेषता यह है, की यह उच्च क्षमता वाली हार्ड डिस्क मेमोरी होती है, आप कंप्यूटर में हार्ड डिस्क लगाकर अपना सारा डेटा स्टोर करके रख सकते है, यह एप्लिकेशन, सॉफ्टवेयर, वीडियो, फोटो और बड़ी फाइल्स को आसानी से स्टोर कर सकती है।
 

3- Mechanical Part (मैकेनिकल भाग)

दोस्तो हार्ड डिस्क ड्राइव की एक और मुख्य विशेषता यह है, की इसमें लगे हुए मैकेनिकल भाग जल्दी खराब नही होते है, अर्थात की इसमें लगे हुए मेकेनिकल भाग लंबे समय तक सर्विस देते है।
 

4- Slow Speed (धीमी गति)

हार्ड डिस्क RAM (Random-access memory) की तुलना में थोड़ी धीमी होती है, अर्थात् यह RAM की तुलना में धीमी गति से डेटा को एक्सेस करती है, जिसकी वजह से यह लंबे समय तक चलती है, और इसमें आप बड़ी मात्रा में डेटा को स्टोर भी कर सकते है।
 

5- Circuit Board (सर्किट बोर्ड)

Hard Disk के पीछे एक सर्किट बोर्ड होता है जो Hard Disk को कंप्यूटर और अन्य डिवाइसों के साथ संचार (कनेक्ट) करने में मदद करता है, और इसी वजह से हार्ड डिस्क को काफी ज्यादा पसंद किया जाता है।
 

हार्ड डिस्क के भाग – Parts of Hard Disk in Hindi

दोस्तो हार्ड डिस्क कई भागों से मिलकर बनी हुई होती है, हार्ड डिस्क के सभी भाग निम्नलिखित हैं –
What Is Hard Disk in Hindi
Platter (प्लैटर): प्लैटर हार्ड डिस्क का प्रमुख भाग होता है, जिसमें डेटा को चुंबकीय रूप से स्टोर किया जाता है, यह एक गोल डिस्क होती है जोकि हार्ड डिस्क के अंदर लगी हुई होती है।
 
Read Write Arm (रीड राइट आर्म): यह Read Write Head के पीछे का भाग होता है. रीड राइट आर्म और रीड राइट हेड आपस में एक दूसरे के साथ जुड़े रहते हैं।
 
Read Write Head (रीड राइट हेड): दोस्तो यह एक छोटा सा चुम्बक होता है जोकि प्लैटर के ऊपर दायें से बाएं की ओर खिसकता है।
 
Actuator (एक्टूएटर): Actuator की मदद से Read Write Arm घूमता है।
 
Spindle (स्पिंडल): स्पिंडल एक मोटर है जोकि Platter के बीच में स्थित होती है, इसकी मदद से Platter घूमता है।
 
Circuit Board (सर्किट बोर्ड): सर्किट बोर्ड हार्ड डिस्क को Communication करने में मदद करती है।
 
Logic Board (लॉजिक बोर्ड): यह एक प्रकार की चिप होती है, जोकि आउटपुट और इनपुट डेटा को कंट्रोल करती है।
 
Connector (कनेक्टर): Connector की सहायता से डाटा Circuit Board से Read Write और Platter तक पहुँचता है।
 
HSA (एचएसए): यह Read Right Arm का Parking Area होता है।
 
दोस्तो यह हार्ड डिस्क के प्रमुख भाग होते हैं इन सभी भागों से मिलकर हार्ड डिस्क बना हुआ होता है और हार्ड डिस्क कार्य करता है, आइए अब जानते है की हार्ड डिस्क के फायदे।
 

हार्ड डिस्क के फायदे – Benefits Of Hard Disk in hindi

दोस्तो हार्ड डिस्क के कई सारे फायदे है, जोकि निम्नलिखित है –
  • हार्ड डिस्क काफ़ी सस्ती होती है, हार्ड डिस्क को खरीदने के लिए ज्यादा पैसे खर्च करने की जरूरत नही पड़ती है।
  • हार्ड डिस्क मार्केट में आसानी से उपलब्ध हो जाती है, अर्थात हार्ड डिस्क को ढूंढने के लिए ज्यादा समस्या नही आती है।
  • हार्ड डिस्क की क्वालिटी बेहतर होती है, अर्थात हार्ड डिस्क उच्च क्वालिटी की होती है।
  • ऑप्टिकल ड्राइव की तुलना में हार्ड डिस्क काफी तेज होती है।
  • हार्ड डिस्क काफी ज्यादा ट्रस्टेड होती है, अर्थात आप अपने महत्वपूर्ण डाटा को स्टोर करने के लिए इस पर भरोसा कर सकते है।
  • हार्ड डिस्क की स्टोरेज क्षमता अधिक होती है, अर्थात की आप अधिक मात्रा में इसमें डाटा स्टोर कर सकते है।
दोस्तो हार्ड डिस्क के यह प्रमुख फायदे है, जिनके बारे में अब आपको जानकारी मिल गई होगी, उम्मीद है की आपको हार्ड डिस्क क्या है (What is Hard Disk In Hindi) से जुड़ी हुई यह जानकारी आपको पसंद आई होगी।
 

हार्ड डिस्क क्या है से संबंधित FAQs 

 

कंप्यूटर में हार्ड डिस्क का उपयोग क्यों होता है?

दोस्तो कंप्यूटर में हार्ड डिस्क का इस्तेमाल डाटा स्टोर करने के लिए किया जाता है, हार्ड डिस्क में डाटा जैसे एप्लिकेशन, सॉफ्टवेयर, फाइल्स, फोटोज और वीडियो आदि को सुरक्षित तरीके से स्टोर कर सकते है, डाटा स्टोरेज के लिए ही हार्ड डिस्क का इस्तेमाल किया जाता है।

हार्ड डिस्क कहाँ रखी जाती है?

दोस्तो हार्ड डिस्क को कंप्यूटर के मदर बोर्ड में इंसर्ट किया जाता है।

हार्ड डिस्क का दूसरा नाम क्या है?

हार्ड डिस्क का दूसरा नाम Non-Volatile मेमोरी और डाटा भंडारण होता है।

हार्ड डिस्क का आविष्कारक किसने किया था ?

दोस्तो हार्ड डिस्क के अविष्कार की बात की जाए तो हार्ड डिस्क का अविष्कार IBM की एक टीम ने किया था।

हार्ड डिस्क कितने प्रकार की होती है?

दोस्तो हार्ड डिस्क के प्रमुख 4 प्रकार होते है, जोकि निम्नलिखित है –
SATA
PATA
SCSI
SSD

हार्ड डिस्क क्या होती है?

हार्ड डिस्क एक डेटा स्टोरेज डिवाइस है, जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर में डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है, कंप्यूटर डाटा जैसे एप्लिकेशन, सॉफ्टवेयर, फाइल्स, फोटोज और वीडियो आदि को सुरक्षित तरीके से स्टोर कर सकते है।

निष्कर्ष:

दोस्तो उम्मीद है की आपको हार्ड डिस्क क्या है (What is Hard Disk In Hindi) से जुड़ी हुई यह जानकारी आपको पसंद आई होगी, इसके अलावा इस लेख में हमारे द्वारा Hard Disk kya hai और हार्ड डिस्क के प्रकार से जुड़ी हुई और भी जानकारी दी गई है,
 
अगर यह जानकारी आपको पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तो तक अवश्य शेयर करें और अगर आपके मन में सवाल या सुझाव हो तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!